12 मार्च 2010

घर को दें पारंपरिक लुक

हर तरफ फैशन के बड़ते दौर ने जहाँ सभी चीजों को बड़ावा दिया है। वहीं घरों की सजावट का प्रचलन अच्छा खासा बड़ गया है। केवल ‍रंग-बिरंगी दीवारों से ही घर खूबसूरत नहीं बनता बल्कि घर में रखे साजो-सामान से भी घर की खूबसूरती निखरती है। यदि आप घर को नया रूप देना चाहते हैं तो एक बार पारंपरिक वस्तुओं से घर की सजावट करने के बारे में जरूर सोचिएगा।
.
.
.

लगभग हर छोटे-बड़े शहर में लगने वाली हस्तकला प्रदर्शनी या हाट-बाजार में आपको बहुत सारी ऐसी चीजें मिल जाएँगी जिन्हें आप अपने घर की सजावट में उपयोग कर सकते हैं।
कच्छी-कसीदे का सामान हो या राजस्थानी लाख का सामान, केरल का सीप का सामान आदि सभी कुछ हमें इन बाजारों में आसानी से मिल जाता है। लकड़ी के खिलौने, फोटो फ्रेम, पारंपरिक चित्र आदि आपके घर को सुंदर बनाने के साथ-साथ आपके दिल को सुकून भी देते हैं।
.
.
.
शहरों में जगह की कमी हम सभी की एक प्रमुख समस्या है। ऐसे में कम जगह में घर को अपनी पसंद में ढालना बहुत मुश्किल होता है। इसके बावजूद कुछ लोग इतने शौकीन होते हैं कि वे छोटी सी जगह को भी अपनी पसंद के अनुसार सुंदर बना लेते हैं।
भारत संस्कृति व परंपराओं का देश है। यहाँ हर प्रदेश की अपनी एक अलग पहचान व कला है।यदि हम इस कला को अपने घर की सजावट में उपयोग करें तो वह हमें शांति व सुकून देने के साथ-साथ हमारे घर की खूबसूरती में चार चाँद भी लगाएगा।
..
।.
.
हर तरफ फैशन के बड़ते दौर ने जहाँ सभी चीजों को बड़ावा दिया है। वहीं घरों की सजावट का प्रचलन अच्छा खासा बड़ गया है। आजकल जहाँ देखो लोगों को थोड़ी सी भी खाली स्पेस मिली नहीं कि वे हरियाली बिखेरने लगते हैं। और इसी दौर में मकान और बंगले के कमरों के अनुरूप फूलों की साज।सज्जा का भी काफी प्रचलन बड़ गया है। जहाँ एक ओर फूलों का चलन बड़ा है। वहीं बाजार में रोजाना नित नए प्रकार के बुके और तरह.तरह के फूल हमें सजे हुए दिखाई देते हैं। घर की सजावट में फूलों का अपना भी विशष महत्व है जो आपके घर को चार.चाँद लगा देते हैं।
.
.
.
आइए हम आपको कुछ ऐसे टिप्स:
1. अपने घर में फूलों की सजावट करते समय हमेशा कमरे के रंग और कमरे के परदों के अनुसार ही फूलों एवं फूलदान का चयन करें। आजकल बाजार में अनेक प्रकार से डेकोरेट किए हुए फूलदान उपलबध हैं, जिन्हें आप आसानी से खरीदसकती हैं। इससे आपके घर की शानो.शौकत और ज्यादा बड़ जाएगी। और घर पर आने वाले मेहमान आपके द्वारा सजाए गए कमरे की तारीफ किए बिना नहीं रह पाएँग।

2. फूलदान में फूलों की सजावट करते समय पानी डालने में कंजूसी ना करें। इस बात को हमेशा ध्यान में रखें कि फूलदान में पानी जितना ज्यादा होगा उतने ही फूल खिले.खिले दिखेंग। साथ ही अगर आपका फूलों को एकाध हफ्ते तक फरेश बनाए रखने का विचार हो तो पानी में एकाध छोटी चम्मच शक्कर मिला दें या एकाध एसि्प्रन की गोली डाल दें।

.
3।ज्यादा फूलों को एक.साथ जोडे रखने के लिए ओएसिस बिर्क का प्रयोग करें। फूलों की सजावट की बड़ती माँग के अनुसार आजकल यह बिर्क बाजार में आसानी से उपलबध होती है।
4. फूलदान के पानी को एक दिन छोडकर बदला जा सकता है। रोज पानी बदलेंगी तो फूल और पत्तियों को क्षति पहुँचने का डर रहेगा।
.
.
.
5। फूलदान सजाते समय सबसे बीच वाले भाग में लंबे डंडी वाले फूल और बाद में छोटे फूल और पत्तियों को इकट्ठा कर बिर्क से जोड दें।




.
.
.
6. बुके सजाते समय डार्क कलर या डार्क शड वाले फूलों को मध्य में रखें और हलके रंग वाले फूलों को आस.पास सजाएँ। इससे आपके गुलदस्ते में खूबसूरती आ जाएगी।


.
.
.
7. बाजार में फूलों को खरीदते समय अधखिले फूलों का ही चयन करें। इससे आपके फूलदान के फूल ज्यादा दिनों तक ताजा दिखाई देंग। अगर गुलदस्ता सजाने में देर हो तो ऐसे फूलों को घर लाने के पश्चात उनकी टहनियों को एकाध घंटा पानी के मर्तबान में रख दें।
.
.
.
8. आपके द्वारा बनाए गए बुके या गुलदस्ते को ज्यादा गरम कमरे में या धूप वाले स्थान पर ना रखें। इससे आपके गुलदस्ते के जल्दी मुरझने का डर रहेगा।

.
.
.
9. फूलों की सजावट के समय पत्तियों का महत्व भी समझें और उन्हें फूलों के साथ जोडे। इससे आपका फूलदान हराभरा दिखाई देगा। साथ ही वह आपके कमरे की रोशनी भीबड़ाएगा।


.
.
.
10। अगर आपके घर में बगीचा है या फूलों को आप अपने ही घर में उगाती हैं तो फूलों को हमेशा अलसुबह तोडें इससे फूलोंमें नमी ज्यादा समय तक बनी रहेगी। इससे फूल जल्दी नहीं मुरझएँग। इस तरह आप फूलों की सजावट से अपने कमरे को महका सकती हैं। जो आपके परिवार वालों के साथ.साथ आपके पति भी उसकी तारीफ किए बिना नहीं रह पाएँग और इस तरह आप बनेंगी उनकी और प्रिय।

Related Posts with Thumbnails