25 मार्च 2011

सुनने के बड़े-बड़े फायदे

बात तो टके की है ज्यादा सुनोगे तो ज्यादा पाओगे, किन्तु ऐसा होता नहीं है। आँफिस हो या कोइ ऐसी महत्वपूर्ण जगह आमतौर पर लोग सुनते कम हैं और बोलने की कोशिश ज्यादा करते हैं या फिर अपने आपको बेहतर सिद्ध करने के चक्कर में बातचीत के कुछ अंश सुनकर और उन्हीं को पकड़कर सामने वाले पर हावी होने के प्लान बनाने लगते हैं। ऐसे मौके बार-बार आते हैं। मसलन इंटरव्यू देते समय, किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति से चर्चा के समय या फिर ऐसी कोई ख़ास जगह जहाँ पर अपने आपको श्रेष्ठ घोषित करना होता है। अंगरेजी में एक कहावत है की 'We often hear but Seldom Listen', यानी हम सुनते तो हैं, लेकिन अच्छे श्रोता नहीं बन पाते। इससे हम कई जगह नुकसान कर लेते हैं, जो हमारे कैरियर के लिए ठीक नहीं है। वैसे सुनाने के कई फायदे हैं। सामने वाला क्या कह रहा है, उसकी हर बात पर गौर कर सकते हैं। यह भी पहचान सकते हैं की वह कितना बुद्धिमान है? वह जो कह रहा है वह आपके लिए कितना लाभदायक है? कई बार तो एक छोटी-सी बात आपके लिए महत्वपूर्ण बन जाती है। आप उसी के आधार पर आँफिस में कोई 'आइडियल आइडिया' रख सकते हैं।, जिससे आपके प्रोमोशन का मार्ग खुल सकता है, पर अधिकाँश समय ऐसा नहीं होता है। दूसरा व्यक्ति क्या कह रहा है, इसे ठीक से सुनना काफी प्रयासों की मांग करता है। यदि आप भी अच्छे श्रोता नहीं हैं तो आप कई बड़े-बड़े फायदों से वंचित रह सकते हैं। 

आपको अपने आप में अच्छा श्रोता बनाने के गुणों को विकसित करना है, तो कुछ आदतों से छुटकारा पाना बहुत जरूरी है।

  • दूसरा व्यक्ति क्या कह रहा है, हम अक्सर उसे बहुत कम सुन पाते हैं, क्योंकि हमारे दिमाग में पहले से ही कई दूसरे सवाल घूम रहे होते हैं जैसे की "यह व्यक्ति वास्तव में क्या सोच रहा या महसूस कर रहा है?" या "यह सारी बातें बताने के पीछे इसका मकसद क्या है?" या "कहीं यह मुझे बेवकूफ बनाने की कोशिश तो नहीं कर रहा है?
  • आपका दिमाग इस बात की तैयारी में जुटा रहता है की आगे क्या बोलना है और आप इस ओर बिलकुल लापरवाह हो जाते हैं की क्या कहा जा रहा है?
  • आप सिर्फ उन्हीं बातों को सुन रहे होते हैं, जिन्हें आप सुनना चाहते हैं और उन बातों को नजरअंदाज कर जाते हैं, जो आपके मनमाफिक नजर नहीं आतीं। 
  • आमने-सामने की बातचीत के दौरान आपका ध्यान भटक जाता है और अधिकाँश बात अनसुनी कर जाते हैं। 
  • आप अन्य व्यक्ति द्वारा कही जा रही बातों को अपने अनुभवों से जोड़ने में जुड़ जाते हैं।
  • आप जैसे ही संवेदनवाहक का मूल्यांकन करने लगते हैं, सन्देश को सुनना भूल जाते हैं। 
  • बातचीत के मुद्दों को जल्दी-जल्दी बदलना यह दिखाता है की जो बात कही जा रही है, उसमें आपकी दिलचस्पी नहीं है।
  • आप जो कहा गया है, उसे सुनते तो हैं, लेकिन तत्काल ही उसे भुला भी देते हैं। 
  • घर में नीले रंग के वस्त्र, नीले रंग के पर्दे, नीले रंग की चादरें व दीवारों पर भी नीला रंग करें। हर बात पर सहमत हो जाना भी यह दिखाता है की आप या तो भलमनसाहत में सब सुन रहे हैं या फिर टकराव को टालने के लिए। 
  • कई बार आप जिन शब्दों या विचारों के बारे में जानते नहीं हैं, उन्हें नजरअंदाज कर जाते हैं। ऐसे में भी आप पूरी बात नहीं सुन पाते।
 

समय का चक्र घुमाओ

हर सफल इंसान की सफलता के पीछे उसकी कड़ी मेहनत और लगन तो होती ही है, उससे ज्यादा जरूरी उसका 'टाइम मैनेजमेंट' होता है। अगर किसी भी व्यक्ति को सफलता का 'स्वाद' चखना है, तो उसे समय के चक्र को अपने हाथ में रखना होगा, नहीं तो समय तो निकलेगा ही सफलता से भी कोसों दूर चला जाएगा। एक तरीके से देखा जाए तो टाइम मैनेजमेंट का हर इंसान की जिन्दगी में बड़ा महत्व है, जिसे समझना बहुत जरूरी है। अक्सर लोग भागदौड़ में रहते हैं? कार्यस्थल पर जल्दी पहुँचते हैं और देर तक रूकते हैं? शनिवार और रविवार को भी काम पर रहते हैं? लगातार थकान और चिडचिडापन महसूस करते रहते हैं? स्टूडेंट में भी यही समस्या देखी जाती है। विशेषज्ञ कहते हैं की छात्र-छात्राएं परीक्षा के समय काफी हडबडी में होते हैं। कारण इन लोगों में भी समय को मैनेज करने की क्षमता नहीं होती है।
/
इसलिए समय  को मैनेज करना उतना ही जरूरी है, जितनी जिन्दगी में सफलता। टाइम मैनेजमेंट के सूत्रों को अपने जीवन में अपनाएं और देखिये कि कैसे कार्यस्थल पर और निजी जिन्दगी में भी सारी चीजें आपके नियंत्रण में आ जाती है।



1.   योजनाबद्ध रूप से काम करना टाइम मैनेजमेंट की पहली शर्त है, लेकिन सिर्फ बड़ी-बड़ी योजनाएं ही न बनाएं, बल्कि उन्हें लागू भी कीजिये और उन पर कायम भी रहिये। 
2.   ध्यान रहे कि आपकी योजना वास्तविकता के बहुत करीब हों, जिसमें किसी किस्म के गैर जरूरी व्यवधान आने की गुंजाइश न रहे। परीक्षा के समय अपने विषयों के हिसाब से ऐसी योजना बनाएं जिससे आपको अतिरिक्त मेहनत न करनी पड़े। 
3.    योजना के प्रति विस्तृत नजरिया अपनाएं। परिवार, दोस्तों, शौक, मनोरंजन, वर्जिश और घूमने फिरने के लिए बचाकुचा समय देने की बजाय इन कामों के लिए अलग से समय निकालें। 
4.   फुर्सत के पल समय की बर्बादी नहीं होते, बल्कि पहले से निर्धारित आराम का समय आपको चीजों को तरतीब में रखने और आपकी कार्यक्षमता को बढाने में मददगार होता है। 
5.    सभी कामों को तयशुदा समय में पूरा करें। किसी काम को अच्छी तरह से करना एक बात है और उसे पूरा करने के तनाव में बार-बार योजना देखना और परेशान रहना दूसरी बात। 
6.    ना कहना भी एक योग्यता है, इसके अभाव में आप बहुत ज्यादा जिम्मेदारियां ओढ़ते चले जाते हैं और इस कारण आपकी सोची-समझी योजनाएं धराशायी हो जाती हैं। इसका सरल अर्थ है काम को लेकर तनाव न पालें। 
7.    अपनी प्राथमिकताएं निर्धारित करें और उनके महत्व तथा अनिवार्यता को ध्यान में रखते हुए उन्हें क्रम में रखें। सबसे महत्वपूर्ण काम को सबसे पहले हाथ में लें, उसके बाद दूसरे नंबर को और इस तरह कम महत्व के काम की और बढ़ते जाएं। 
8.    समय के साथ काम करने से आपकी आँफिस या काम करने की जगह अच्छी ईमेज बनेगी। 
9.    काम समय के अन्दर तो करें, लेकिन जल्दबाजी में बिगड़ना नहीं चाहिए। 
10.  समय पर काम होने से आपको गलतियाँ सुधारने का समय मिलेगा। 


23 मार्च 2011

नेटवर्किंग कमाल

1.  आपके संपर्क आपको बहुत हद तक नौकरी दिलाने में मददगार साबित हो सकते हैं। अगर आप किसी संस्थान में नौकरी पाने के इच्छुक हैं तो आपको किसी ऐसे व्यक्ति से संपर्क साधना चाहिए, जो आपके लिए रास्ता बना सके। इसका तात्पर्य यह नहीं की आप गलत साधनों का प्रयोग करें। उदहारण के तौर पर एक व्यक्ति कंपनी में नौकरी करना चाहता था। जब उसने इस कंपनी का विज्ञापन देखा तो अपने संपर्क के द्वारा उसने अपना रिज्यूम उस कंपनी के प्रबंधक को दे दिया। उसने उन लोगों को भी पछाड दिया, जो उससे कहीं ज्यादा योग्य थे। इसका कारण समय पर की गयी नेट्वर्किंग तकनीक का उपयोग था। इस कंपनी के नियोक्ता का जवाब था की क्यों वह किसी और व्यक्ति के पीछे दौड़ें जब उसे सही इंसान आसानी से मिल गया है। 
2.   जब आप ऐसे व्यक्ति से मिलने जाएं तो पहले से ही योजना बला लें। घर से ही सारी तैयारी कर के जाएं, जिस कंपनी में आप जा रहे हैं, उसके बारे में पूरी जानकारी पहले से प्राप्त कर लें। पहले से ही सोच-विचार कर लें की उस व्यक्ति से मिलकर आप क्या कहना चाहेंगे? जैसे की आपकी योग्यता के द्वारा संस्थान को क्या फायदा हो सकता है?
3.   उस व्यक्ति को भविष्य की योजनाओं को बताने के अलावा कुछ ऐसा भी बताइये जो आपकी कार्यकुशलता को भी उजागर करे। वार्तालाप को संस्थान की कठिनाइयों पर केन्द्रित करें और उन जरूरतों को पूरा करने के उपाय बताएं, जिनके बारे में ध्यान नहीं दिया गया है। इस दौरान अपनी क्षमताओं का  सही प्रयोग करने से आप सबका ध्यान अपनी तरफ केन्द्रित का सकते हैं। 
4.   वह व्यक्ति जिसके संपर्क के द्वारा आप नौकरी प्राप्त करने में सफल रहे हैं। आपको उसका आभारी होना चाहिए। साथ ही उसे भी कुछ ऐसी जानकारी दे सकते हैं, जो उसके जीवन में काम आए।
5.    आपको समय के पहले ही अपना सोर्स ढूँढने की कोशिश करनी चाहिए। कुछ लोग उस समय चौकन्ने होते हैं, जब कंपनी जाँब के लिए विज्ञापन निकालती है। दरअसल यह एक लम्बी प्रक्रिया होती है। अगर आप लगातार संस्थान या कंपनी के उचित व्यक्ति से संपर्क बना लेते हैं तो आप विज्ञापन निकलने के पहले ही नौकरी पा सकते हैं। ऐसी स्थिति में आप मात्र एक उम्मीदवार होंगे। छोटी और मझली कंपनियों में अक्सर ऐसा ही होता है। 
6.   हर दिन दो व्यक्तियों से संपर्क बनाने की कोशिश करें, जितने ज्यादा लोगों से मिलोगे उतने ही जाँब मिलने की संभावना होगी। मसलन फ्रेंड्स, इंडस्ट्री लीडर और अच्छे बड़े नियोक्ता आदि। दो लोगों से मिलने का मतलब सप्ताह में 10 लोगों से और महीने में चालीस नए लोगों से मिल सकते हैं। एक बात का ध्यान रखिये की मिलकर मुलाक़ात करना सबसे बेहतर तरीका होता है। यदि आप अलग-अलग शहर में हैं तो मेल, फोन या फिर पत्राचार से संपर्क बना सकते हैं।
7.    तर्कपूर्ण प्रश्न ही पूछिए और अपने नेट्वर्किंग साथी को भी वार्तालाप में शामिल कीजिये। ऐसी स्थिति में सिर्फ बोलते ही मत रहिये, कोशिश अधिक से अधिक सुनने की कीजिए।
8.    जब आप मिलने जाएं तो कंपनी के माहौल को देख कर ही चुनाव करें की आपको किस तरह से कपडे पहनने हैं। कपडे साफ़-सुथरे और सादगीपूर्ण पहनें। उन में ज्यादा इत्र का प्रयोग भी न करें। स्वयं को सुव्यवस्थित रखें।
9.    अपने संपर्कों को कभी टूटने मत दीजिये। एक व्यक्ति जिसका लक्ष्य एक बड़े संस्थान में नौकरी पाना था, उसने उस कंपनी के इक्कीस लोगों से संपर्क साधा जब तक उसे नौकरी नहीं मिली। हर सभा के बाद अपने नेट्वर्किंग साथी को धन्यवाद पत्र जरूर लिखिए। अगर आपको मनपसंद संस्थान में नौकरी मिल गई है तो ऐसे प्रस्ताव जरूर भेजिए जो संस्थान की प्रगति में सहायक हो सकते हैं।
10.    नेट्वर्किंग की तुलना हम डेटिंग से कर सकते हैं। डेटिंग में कभी पहली मुलाक़ात में शादी की आशा नहीं करनी चाहिए। उसी प्रकार नेट्वर्किंग में भी पहली मुलाक़ात में नौकरी मिल जाने की आशा नहीं करनी चाहिए। आपका काम जानकारी प्राप्त करना है। उस व्यक्ति का नाम व फोन नंबर लिख लीजिये और कोशिश करते रहिये। उससे अधिक जानकारी प्राप्त करने से नौकरी मिलने के आसार बढ़ जाते हैं। स्वयं को जोशीले, उत्साहित प्रस्तुत करें, लेकिन उसमें स्वार्थीपन न हो। 

नेट्वर्किंग क्या है? 
+   उन लोगों से संपर्क साधना जो आपकी सहायता कर सकते हैं। 

इसका फायदा क्या है
+   आपको वर्त्तमान या भविष्य में नौकरी दिला सकते हैं। 
+   आपको उन लोगों से मिला सकते हैं, जिन्हें लोगों की जरूरत है। 
+   आपको नई कंपनियों या एनी जानकारी दे सकते हैं। 

भ्रम और सच्चाइयां 
भ्रम : आपको केवल उन्हीं लोगों से संपर्क साधना चाहिए जो आपकी मदद कर सकते हैं। 
सच्चाई : स्वयं को सीमित मत करिए। अपनी सोच को संकीर्ण मत होने दीजिये। आपको नौकरी दिलाने में कोइ भी सहायक हो सकता है। 
भ्रम : नेट्वर्किंग स्थापित करने के लिए केवल सही व्यक्ति को जानना जरूरी है। 
सच्चाई : यह आप पर निर्भर करता है की आप को संपर्क किस तरह से मदद करते हैं। 
भ्रम : अजनबी आपको नौकरी दिलाने में असहाय होते हैं। 
सच्चाई : अगर आपने अपना प्रस्ताव सही तरीके से रखा है तो ज्यादा से ज्यादा लोग आपकी मदद करते हैं। 

अपने संपर्कों की सूची बनाएं. अपनी सूची को पिरामिड के आकार में बनाएं, जिसके तीन स्तर हों। 
पहला : इसमें वे लोग आते हैं जिन से हमारा संपर्क लगातार बना रहता है। हम इन से आसानी से बात भी कर सकते हैं। इनमें हमारे रिश्तेदार, पड़ोसी और दोस्त आते हैं। इस सूची में दस से पंद्रह लोग हो सकते हैं। 
दूसरा : इस स्तर में सहकर्मी और परिचित लोग आते हैं जिनसे आप कभी-कभी मिलते हैं और आप से व्यावसायिक तौर पर जुड़े हैं। 
तीसरा : इस स्तर में आने वाले लोगों से संपर्क साधने में सबसे ज्यादा कठिनाई होती है। इसमें वे लोग आते हैं, जो आपके लिए अजनबी हैं और उनके बारे में पहले और दूसरे स्तर के लोगों से सुना है या अखबार या टेलीफोन निर्देशिका में पढ़ा है। 
अब जब आपने अपने संपर्कों की सूची बना ली है तो डेटाबेस तैयार कीजिये -
नेटवर्क डेटाबेस :-
निम्नलिखित जानकारी होना जरूरी : नाम, शीर्षक, संस्थान का पता, व्यवसाय का पता, घर का पता, दूरभाष, फैक्स नंबर, ईमेल का पता, संपर्क की प्रकृति, दूसरे संस्थान और लोगों के नाम, कौन सा व्यक्ति कितना ज्यादा महत्वपूर्ण है।
इसके अलावा और भी कई तरह से यह मददगार साबित हो सकता ह।

20 मार्च 2011

सेक्सः स्त्रियां भी तोड़ें नियम

सेक्स दांपत्य जीवन का एक अहम हिस्सा है, मगर कई बार कल्पनाशीलता के अभाव में यह उबाऊ भी हो सकता है। इसका नतीजा सामने आता है पहले सेक्स के प्रति उकताहट के रूप में और फिर यह आपसी संबंधों में आई नीरसता में बदल जाता है। यह सुनने में अजीब लग सकता है मगर उकताहट भरा सेक्स अक्सर दांपत्य जीवन को भी उकताहट भरा बना देता है। इतना ही नहीं पति-पत्नी के बीच की आपसी समझदारी पर भी इसका असर देखा जा सकता है। इसका असर इतना गहरा होता है कि सेक्स विशेषज्ञ कहते हैं कि आम जीवन में पति-पत्नी के बीच बातचीत और उनके तौर-तरीकों को देखकर बताया जा सकता है कि उनकी सेक्स लाइफ कैसी है।

बदलते दौर में स्त्रियां
बदलते दौर ने हर जगह स्त्रियों की भूमिका को बदला है। गौर करें तो अब घर के तमाम अहम फैसले पत्नियां ही करने लगी हैं। रात को डिनर में क्या बनेगा से लेकर ड्राइंगरूम की सजावट, कार का मॉडल और बच्चों के लिए कौन सा स्कूल बेहतर रहेगा... अक्सर स्त्रियां ही तय करने लगी हैं। बाहरी जीवन में आए इस बदलाव का असर शयनकक्ष पर भी पड़ा है। पहले के मुकाबले सेक्स में उनकी सक्रियता बढ़ी है। बदलते समय के साथ पुरुषों न सिर्फ इस बदलाव को स्वीकार किया है बल्कि वे इसे सकारात्मक तौर पर लेने लगे हैं।

पत्नियों की भूमिका बदली
गौर करें तो रूटीन सेक्स लाइफ को दिलचस्प बनाने की जिम्मा अब सिर्फ पति पर नहीं डाला जा सकता। स्त्रियां अपनी सेक्सुअलिटी और सेक्स इच्छाओं के प्रति जागरुक हो रही हैं। सेक्स भी उनका पैसिव रोल नहीं रह गया है, अब वे इसमें बराबर की भागीदार हैं। यहां सेक्स एक्सपर्ट्स के उन सुझावों पर एक नजर डालेंगे जिन्हें वे खास तौर पर आज के दौर की स्त्रियों को ध्यान में रखकर देते हैं।

नियम बनाएं नहीं नियम तोड़ें
सेक्स एक्सपर्ट्स की सबसे जरूरी सलाह यह है कि सेक्स लाइफ को दिलचस्प बनाने का कोई नियम नहीं है। बल्कि वे बेडरूम में बिताए क्षणों को सुखद बनाने के लिए नियम बनाने की जगह नियम तोड़ने पर ज्यादा जोर देते हैं। उनका मानना है कि पत्नियों का नियम तोड़ना दंपति की सेक्स लाइफ में एक नई ऊर्जा भर देता है। आइये देखें वो कौन से नियम हैं जिन्हें तोड़ने का साहस कभी-कभार हर पत्नी को करना चाहिए।

अनावृत होने से डरें नहीं
आम तौर पर शादी के कुछ साल बाद सेक्स को तमाम कामों की तरह फटाफट निपटाने पर ज्यादा जोर दिया जाने लगता है। इसका सबसे पहला असर यह होता है कि पत्नियां पूरी तरह से अपने कपड़े उतारने से डरती हैं। उन्हें यह भी डर होता है कि ऐसी स्थिति में परिवार के किसी सदस्य ने बुला लिया तो? फिलहाल यहां एक्सपर्ट्स की राय मानें और कभी-कभार पति के सेक्सी मूड को देखते हुए उऩ्हें अपने शरीर के उतार-चढ़ाव से खेलने का पूरा मौका दें। यह स्त्रियों में अपनी सेक्सुअलिटी के प्रति आत्मविश्वास पैदा करेगा।

फोरप्ले को नजरअंदाज न करें
सेक्स में फोरप्ले की भूमिका को नजरअंदाज न करें। इसे महज एक शारीरिक क्रिया में न बदल दें। दरअसल फोरप्ले ही पति-पत्नी मे आपसी संवाद और समझदारी बढ़ाता है। यह आपके सेक्स को ज्यादा उत्तेजक, उत्साह से भरा बनाता है। देर तक आपके भीतर उसकी सिहरन बरकरार रहती है। इतना ही नहीं यह आपकी व्यस्त दिनचर्या से आपके मन-मस्तिष्क को बाहर निकालता है, आपको ज्यादा फ्रेश और ज्यादा उर्जा से भरा हुआ बनाता है।

मल्टीपल आर्गेज्म आजमाएं
मप्लीपल आर्गेज्म के बारे में स्त्रियों ने सुना तो बहुत होता है मगर उसके व्यावहारिक रूप के बारे में उन्हें कुछ भी पता नहीं होता है। शोध बताते हैं कि आर्गेज्म के बाद भी स्त्रियों की योनि में देर तक उत्तेजना बनी रहती है। यानी आपका शरीर तृप्ति के बाद भी सहवास की मांग करता रहता है। अक्सर संसर्ग के बात दंपति एक-दूसरे से अलग हो जाते हैं और इस सुख से वंचित रह जाते हैं। तो यह नियम तोड़ने के लिए जरूरी है कि सहवास खत्म होने के बाद भी प्रेम करना जारी रखें। आपके पति को दोबारा तैयार होने में थोड़ा वक्त लगेगा। फोरप्ले को दोबारा किया जा सकता है। अपने साथी से नाजुक अंगों को दोबारा सहलाने को कहें। आप दोबारा ज्यादा मादकता से भरे सुख को पाने के लिए तैयार होंगी।

अंधेरे की आजादी
अंधेरा आपके सेक्स व्यवहार को एक नई आजादी देता है। आप तौर पर दंपति सेक्स के दौरान तेज रोशनी नापसंद करते हैं। मगर इस बार धीमे नाइट लैंप को भी आफ कर दें। अंधेरे में एक-दूसरे के शरीर के स्पर्श को महसूस करें। एक-दूसरे की सांसों के उतार-चढ़ाव और कानों में गूंजती फुसफुसाहट और अस्फुट आवाजें आपके लिए एक नया अनुभव होंगी...

सेक्सुअल फैंटेसी शेयर करें
महिलाएं अक्सर अपनी सेक्सुअल फैंटेसी शेयर करने से हिचकिचाती हैं। आमतौर पर उन्हें इस बात का भय सताता है कि कहीं पति ने उन्हें गलत समझ लिया तो... मगर यह नियम तोड़ने के लिए भी आपको साहस करना होगा। एक सर्वे के मुताबिक पति न सिर्फ पत्नियों की सेक्सुअल फैंटेसी के बारे में जानने को उत्सुक रहते हैं बल्कि यह उनके भीतर उत्तेजना भी बढ़ाता है। आप उनके लिए सिर्फ एक सेक्स मशीन नहीं बल्कि इच्छाओं से भरी एक बहुआयामी स्त्री के रूप मे सामने आती हैं। तो एक अपनी कल्पनाएं आजमा कर देखें॥ उन्हें बताएं कि आपने सपना देखा कि आपके फेवरेट फिल्म स्टार ने आपको गोद में उठा रखा था.. फिर देखिए वे आपकी कल्पनाओं में कैसे पंख लगाते हैं...

कामसूत्रः ... अगर मूड में आ गए हैं तो हड़बड़ी मत करिए। मंजिल तक पहुंचने में वक्त लीजिए।

Related Posts with Thumbnails