08 जुलाई 2010

आपकी दोस्ती कहीं प्यार तो नहीं ( Not much love your friendship )



कब दो अजनबी दोस्ती की राह पर चलते-चलते प्यार के मोड़ तक पहुँच जाते हैं यह उन्हें खुद भी पता नहीं चलता। सच तो यह है कि हम यह भी नहीं समझ पाते कि जिसे हम सहज अपना दोस्त कह रहें हैं कहीं वह हमारा प्यार तो नहीं? हमें तो बस इतना पता होता है कि हमें उसका साथ, उसकी मौजूदगी अच्छी लगती है।
इसलिये आपकी दोस्ती कहीं प्यार तो नहीं?

जानिये के प्रश्नावली से हर सवाल का जवाब 'हाँ' या 'ना' में ही दें। हर 'हाँ' के लिये खुद को एक अंक दें और अंत में सबको जोड़ लें।

1.      क्या आपको खुद से ज्यादा अपने दोस्त की चिंता रहती है?

2.      क्या आप दोस्त से मिलने के लिये समय से पहले पहुँच जाते हैं?

3.      दोस्त से मिलने जाने से पहले आप खुद तय नहीं कर पाते कि क्या पहनना है क्या नहीं?

4.      मिलने पर किन विषयों पर बात करनी है तथा किन प्रशनों आदि का जिक्र करना है, इन सबको पहले से सोच लेते हैं?

5.      क्या बातें करते समय आप सिर्फ दोस्त के पूछने पर ही जवाब देते हैं?

6.      हर अगली मुलाक़ात के लिये आप तत्पर तथा बेचैन रहते हैं?

7.      आप अपने दिल की बात अपने दोस्त से किसी तीसरे के जरिये व बहाना बनाकर करते हैं?

8.      फोन के पास बैठकर आप अपने दोस्त के काँल का इंतज़ार करते हैं?

9.      किसी से अपने दोस्त का जिक्र व नाम सुनकर आपके चेहरे पर रंगत छा जाती है?

10.      सार्वजनिक स्थानों से निकलकर क्या आपकी, अपने दोस्त से कहीं तन्हाई में मिलने की इच्छा होती है?

11.      मुलाक़ात के समय आपको समय का पता ही नहीं चलता तथा आपको यह महसूस होता है कि आप घर जल्दी जा रहे हैं?

12.      बहुत कुछ कह कर भी ऐसा लगता है जैसे आपने कुछ भी कहा ही नहीं?

13.      क्या आपको त्योंहारों से ज्यादा दोस्त के जन्मदिन के आने का इंतज़ार रहता है?

14.      जब भी आप शाँपिंग पर जाते हैं तो दोस्त के लिये कुछ सरप्राइज गिफ्ट जरूर लेते हैं?

15.      आपको अपने बीच तीसरे का जिक्र या मौजूदगी आफत लगती है?

Related Posts with Thumbnails