11 सितंबर 2011

नियम के फायदे अनेक

अनियमित जीवनशैली से अनियमित भविष्य निकलता है, जिसमें दु:ख और रोग के सिवाय कुछ भी नहीं होता। नियम के माध्यम से शरीर और मन को सेहतमंद बनाया जा सकता है। आष्टांग योग के दूसरे अंग नियम भी पाँच प्रकार के होते हैं : (1) शौच, (2) संतोष, (3) तप, (4) स्वाध्याय और (5) ईश्वर प्राणिधान।

(1) शौच- शरीर और मन की पवित्रता ही शौच है। शरीर और मन की पवित्रता से रोग और शोक का निदान होता है। शरीर की पवित्रता के लिए मिट्टी, उबटन, त्रिफला, नीम आदि लगाकर निर्मल जल से स्नान कर शुद्ध होते हैं और काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार को त्यागने से मन की शुद्धि होती है।

(2) संतोष- मेहनत और लगन द्वारा प्राप्त धन-स‍म्पत्ति से अधिक की लालसा न करना, न्यूनाधिक की प्राप्ति पर शोक या हर्ष न करना ही संतोष है। संतोषी सदा सुखी। अत्यधिक असंतोष से मन में बेचैनी और विकार उत्पन्न होता है, जिससे शरीर रोगग्रस्त हो जाता है।

(3) तप- सुख-दुख, भूख-प्यास, मान-अपमान, हानि-लाभ आदि को दृड़ता से सहन करते हुए मन और शरीर को विचलित न होने देना ही तप है। भोग-संभोग की प्रबल इच्छा पर विजय पाना भी तप है। तप है-इंद्रिय संयम। तप से शरीर और मन मजबूत होते हैं।

(4) स्वाध्याय- स्वाध्याय का अर्थ है स्वयं का अध्ययन करते हुए विचार शुद्धि और ज्ञान-प्राप्ति के लिए सामाजिक, वैज्ञानिक तथा आध्यात्मिक विषयों का नित्य-नियम से पठन-मनन करना। कहते हैं कि ज्ञान ही दुखों से छुटकारा पाने का रास्ता है।

(5) ईश्वर प्राणिधान- इसे शरणागति योग या भक्तियोग भी कहा जाता है। मन की स्थिरता और शरीर की शांति के लिए केवल एक ईश्वर को ही अपना ईष्ट बनाएँ, जिससे मन भ्रम और भटकाव से छुटकर उर्जा को संवरक्षित करने लगेगा।

मन, वचन और कर्म से ईश्वर की आराधना करना और उनकी प्रशंसा करने से चित्त में एकाग्रता आती है। इस एकाग्रता से ही शक्ति केंद्रित होती है जो दुख और रोग से लड़ने की ताकत देती है। 'ईश्वर पर कायम' रहने से शक्ति का बिखराव बंद होता है।

यौगा पैकेज : प्राणायाम से निगेटिव ऊर्जा का निकास होता है। कपालभाति और भस्त्रिका किसी योग शिक्षक की सलाह अनुसार करें। प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करें। ज्ञान, पृथिवि, वरुण, वायु, शून्य, सूर्य, प्राण, लिंग, अपान और अपान वायु मुद्रा करने से सभी तरह के रोगों में लाभ प्राप्त किया जा सकता है। दस मिनट का ध्यान आपको रिफ्रेश कर देगा।

Related Posts with Thumbnails