25 दिसंबर 2009

मंगलमय फुलझरियाँ छूटें

मंगलमय फुलझरियाँ छूटें

दीपावलि की सघन अमा में
घर आँगन और दिशा दिशा में
अंतस की हर गहन गुफ़ा से
खुशियों के स्वर फूटें
मंगलमय फुलझरियाँ छूटें



सजें मुँडेरें दीपदान से
हर आँगन हल्दी औ धान से
लक्ष्मी चरण चिह्न दरवाज़े
सभी अपशकुन टूटें
मंगलमय फुलझरियाँ छूटें



नव संवत नव लोक नई ऋतू
सखा बंधु परिवार मात-पितु
सुख समृद्धि सुशोभित जन-गाना
पुण्य अनगिनत लुटे
मंगलमय फुलझरियाँ छूटें



Related Posts with Thumbnails